ट्रैफिक पुलिस कैसे बनें? | Traffic Police kaise bane in Hindi

आप में से बहुत सारे स्टूडेंट्स ऐसे होते हैं जो 12th पास करने के बाद ट्रैफिक पुलिस में जाना चाहते हैं लेकिन उन्हें इसके बारे में पूरी इन्फॉर्मेशन नहीं होती है कि इसके लिए वे क्या करें तो आपको बता दे कि ट्रैफिक पुलिस के लिए डायरेक्ट भर्ती नहीं होती बल्कि इसका अलग प्रोसेस होता है तो आइए आज के इस आर्टिकल में हम आपको ट्रैफिक पुलिस बनने से संबंधित पूरी जानकारी देंगे.

Traffic Police kaise bane in Hindi
Traffic Police kaise bane in Hindi

जैसे कि ट्रैफिक पुलिस का क्या काम होता है, इन्हें वेतन कितना मिलता है, इसके लिए आयु सीमा कितनी होनी चाहिए, फिजिकल में क्या होता है, मेडिकल कैसे होता है, लिखित परीक्षा कैसे होगी उसका सिलेबस क्या होगा और आप इसके लिए आने वाली भर्तियों के बारे में कैसे और कहाँ पर पता करेंगे आदि तो अगर आप भी इसके बारे में पूरी इन्फॉर्मेशन चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें.

ट्रैफिक पुलिस कौन होता है और इन्हें क्या काम करना पड़ता है?

आपने कभी ना कभी उसने कभी चौराहों पर या सड़कों के किनारे सफेद ड्रेस पहने कुछ पुलिस कर्मियों को देखा होगा दरअसल इन्हें ट्रैफिक पुलिस कहते हैं इनकी तैनाती इसलिए कराई जाती है जिससे कि आम आदमी ट्रैफिक के नियमों का सही से पालन करें और जिससे दुर्घटनाओं को किसी हद तक कम किया जा सके इनकी शहर में किसी भी चौराहे पर ड्यूटी लगा दी जाती है जहाँ पर ये पूरे दिन अपनी सेवा देते हैं ये चौराहों पर भीड़ को कंट्रोल करने का काम करते हैं इसके साथ ही ओवर लोडेड वाहनों को तेज स्पीड में चला रहे वाहनों को रोककर उनके लाइसेंस और बाकी कागजातों को चेक करना, ड्राइवर का टेस्ट लेकर चेक करना की कही वह ड्रिंक ड्राइव तो नहीं कर रहा था, ट्रैफिक सिग्नल तोड़ने पर एयर ट्रैफिक नियमों का किसी भी तरह से उल्लंघन करने पर ट्रैफिक पुलिस ड्राइवर का चालान काट सकता है, और बिना किसी वारंट के ड्राइवर को गिरफ्तार करने तक की पावर ट्रैफिक पुलिस के पास होती है.

ट्रैफिक पुलिस की भर्ती कैसे होती है?

ट्रैफिक पुलिस के किसी भी पद के लिए डायरेक्ट भर्ती नहीं होती बल्कि पुलिस के रूप में कार्य कर रहे जवानों को ही ट्रैफिक पुलिस में ज्वॉइन कराया जाता है दरअसल जब भी ट्रैफिक पुलिस के लिए जवानों की आवश्यकता होती है तो जो भी पुलिसकर्मी ट्रैफिक पुलिस में जाना चाहते हैं उन्हें एक प्रार्थना पत्र लिखकर पुलिस के उच्च अधिकारियों को देना होता है जिसके बाद उनमें से कुछ कैंडिडेट को सलेक्ट किया जाता है और उनके कैंडिडेट को कुछ ही दिनों की ट्रेनिंग पर भेज दिया जाता है फिर ट्रेनिंग पूरी होने के बाद उन्हें ट्रैफिक पुलिस के रूप में तैनात कर दिया जाता है तो इस प्रकार पुलिस के रूप में ज्वाइन होने के बाद कोई कैंडिडेट पुलिस से ट्रैफिक पुलिस में जा सकता है.

पुलिस कॉस्टेबल से ट्रैफिक पुलिस बनने की प्रक्रिया क्या होती है?

ट्रैफिक पुलिस बनने के लिए सबसे पहले पुलिस कांस्टेबल के पद पे नौकरी पानी होती है तो पुलिस कॉन्स्टेबल बनने के लिए कैंडिडेट का किसी भी विषय से 12th के पास होना जरूरी होता है और कैंडिडेट की आयु सीमा पुरुष कैंडिडेट के लिए 18 से 22 साल और महिला कैंडिडेट के लिए 18 से 25 साल के बीच में होनी चाहिए जहाँ पर ओबीसी वालो को 3 साल की छूट दी जाती है जिसके अनुसार ओबीसी पुरुष कैंडिडेट की आयु सीमा 18 से 25 और ओबीसी महिला कैंडिडेट की आयु सीमा से 28 साल के बीच में होनी चाहिए और एससी एसटी वालों को 5 साल की छूट दी जाती है जिसके अनुसार एससी एसटी पुरुष कैंडिडेट की आयु सीमा 18 से 27 साल और एससी एसटी महिला कैंडिडेट की आयु सीमा 18 से 30 साल के बीच में होनी चाहिए.

पुलिस कॉन्स्टेबल की भर्ती प्रक्रिया में लिखित परीक्षा, शारीरिक मानक परीक्षण, शारीरिक दक्षता परीक्षा, मेडिकल टेस्ट और डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन लिया जाता है.

लिखित परीक्षा

इसमें सभी राज्यों में लेकिन लेकिन नंबरों की होती है यहाँ पर हम उत्तर प्रदेश के बारे में बात करेंगे तो उत्तर प्रदेश में 300 नंबर के 150 प्रश्न पूछे जाते हैं और यह 2 घंटे का पेपर होता है जिसमें ½ नेगेटिव मार्किंग होती है इसमें जनरल हिंदी, करेंट अफेयर्स, जनरल नॉलेज, रीजनिंग एबिलिटी, मेंटल एबिलिटी, न्यूमेरिकल एबिलिटी ओर इन्टेलिजेन्स कोसेंट (Quotient) आदि विषयों से सम्बंधित पूछे जाते हैं.

शारीरिक मानक परीक्षण

इसमें कैंडिडेट की हाइट पुरुष जनरल, ओबीसी और एससी वालों के लिए 168 सेंटीमीटर और पुरुष एसटी वालों के लिए 160 सेंटीमीटर होने चाहिए जबकि महिला, जनरल, ओबीसी और एससी वालों के लिए 152 सेंटीमीटर और महिला एसटी वालों के लिए 147 सेंटीमीटर होनी चाहिए और कैंडिडेट की चेस्ट जनरल, ओबीसी और एससी वालों के लिए 79 सेंटीमीटर और एसटी वालों के लिए 70 सेंटीमीटर होनी चाहिए जिसमें फूलने के बाद 5 सेंटीमीटर का फुलाव भी आना चाहिए जिसके अनुसार जनरल, ओबीसी और एससी वालों के लिए फूलने के बाद चेस्ट 84 सेंटीमीटर और एसटी वालों के लिए फूलने के बाद चेस्ट 82 सेंटीमीटर होनी चाहिए और वजन जो कि सिर्फ महिलाओं का लिया जाता है 40 से 45 किलोग्राम के लगभग होना चाहिए.

शारीरिक दक्षता परीक्षा

इसमें दौड़ लगानी होती है जिसमें पुरुषों को 25 मिनट में 4.8 किलोमीटर और महिलाओं को 14 मिनट में 2.4 किलोमीटर की दौड़ पूरी करनी होती है इसके साथ ही कुछ राज्यों में शारीरिक दक्षता परीक्षा में बॉल थ्रो, लॉन्ग जम्प, उठक-बैठक, रस्सी कूद जैसी ऐक्टिविटी भी कराई जाती है जिसमें बॉल थ्रो में पुरुषों को 50 मीटर और महिलाओं को 16 मीटर फेंकनी होती है लॉन्ग जम्प में पुरुषों को 13 फिट और महिलाओं को 8 फिट तक कूद लगानी होती हैं चिंनिंगअप में कम से कम 5 और अधिकतम 10 लगाने होते हैं और स्किपिंग में 1 मिनट में अधिकतम 80 बार और कम से कम 55 बार सी कूदनी होती है.

मेडिकल टेस्ट

इसमें कैंडिडेट की आँखों की दृष्टि 6/6 से होनी चाहिए उसके कान बिल्कुल सही होने चाहिए, कान बहने या कम सुनाई देने जैसी कोई समस्या नहीं होनी चाहिए, कैंडिडेट में कलर ब्लाइंडनेस जैसी कोई समस्या भी नहीं होनी चाहिए, कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट करने के लिए कैंडिडेट को पेपर दिखाए जाते हैं जिनके बीच में एक अलग रंग का नंबर लिखा होता है जिसके बारे में एक कैंडिडेट को बताना होता है, कैंडिडेट के घुटनों में नॉक नी जैसी कोई समस्या भी नहीं होनी चाहिए, उसके घुटने बिलकुल नॉर्मल होनी चाहिए, पैरों का तलवा बिल्कुल सपाट नहीं होना चाहिए, उसके बीच में हल्का सा गैप होना चाहिए, इसके साथ ही कैंडिडेट बिल्कुल सवस्थ होना चाहिए उसमें कोई किसी तरह की बिमारी नहीं होनी चाहिए आदि इस तरह के टेस्ट मेडिकल में लिए जाते हैं.

डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन

इसमें कैंडिडेट को 10th, 12th की मार्कशीट ग्रेजुएशन की है या कोई डिप्लोमा किया है तो उसका सर्टिफिकेट भी ले जा सकते हैं, जाति प्रमाण पत्र, स्थाई निवास प्रमाण पत्र, चरित्र प्रमाण पत्र, आधार कार्ड और 10 फोटो आदि डॉक्यूमेंट लेकर जाने होते हैं तो इन सभी टेस्ट को पास करने के बाद सिलेक्टेड कैंडिडेट्स को ट्रेनिंग पर भेजा जाता है और इस प्रकार कोई भी कैंडिडेट सबसे पहले पुलिस कॉन्स्टेबल बनता है और फिर पुलिस कॉन्स्टेबल के रूप में कार्य करते हुए जब भी गवर्नमेंट को ट्रैफिक पुलिस के जवानों की आवश्यकता होती है तो इच्छुक पुलिस कर्मियों को ट्रैफिक पुलिस में भेज दिया जाता है.

पुलिस भर्ती के बारे में कैसे पता करें?

माना आप उत्तर प्रदेश से हैं तो आपको गूगल पर uppbpb.gov.in सर्च करना होगा जिसके बाद आप पुलिस भर्ती की ऑफिसियल वेबसाइट पर आ जाएंगे और यहीं पर नीचे आने पर आपको उत्तर प्रदेश में पुलिस विभाग में चल रही सभी लैटेस्ट वेकैंसीज के बारे में पता चल जाएगा जिन पर क्लिक करके आप उनके बारे में पढ़ सकते हैं और अप्लाई भी कर सकते हैं और इसी प्रकार आप अपने राज्य की वेबसाइट पर जाकर पुलिस भर्ती के बारे में जानकारी ले सकते हैं.

ट्रैफिक पुलिस को कितना वेतन मिलता है?

ट्रैफिक पुलिस कॉन्स्टेबल को प्रतिमाह 22,000 से 28,000 रूपये की लगभग वेतन मिलता है जो कि समय के साथ साथ साल दर साल बढ़ता रहता है.

आज आपने क्या सीखा?

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको ट्रैफिक पुलिस बनने से संबंधित पूरी जानकारी दी है हम आशा करते हैं कि यह जानकारी आपको पसंद आई होगी इसके अलावा अगर आपका कोई और सवाल है आप किसी अन्य टॉपिक के बारे में जानकारी चाहते हैं तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *