UP: बिजली की समस्या का समाधान नहीं हुआ तो ले सकेंगे मुआवजा, पैसा आएगा सीधे बैंक अकाउंट में

उत्तर प्रदेश में बिजली से जुड़ी समस्या दूर ना होने पर मुआवजा मिलेगा ये मुआवजा किसानों को भी बिजली कंपनी द्वारा दिया जाएगा लेकिन इसके लिए आपको पहले अपनी समस्या को टोल फ्री नंबर 1912 लिखवाना होगा उसके बाद आपको एक टाइम दिया जाएगा अगर उस समय तक आपकी परेशानी दूर नहीं होती है तो इसके बाद आप फिर से टोल फ्री नंबर 1912 पर कॉल करके मुआवजा का दावा कर सकते हैं और ये मुआवजा सीधे आपके बैंक अकाउंट में भेजा जाएगा.

UP में अब बिजली की समस्या को देखते हुए बिजली उपभोक्ता मुआवजा की मांग कर सकेंगे इसके लिए पूरे उत्तर प्रदेश में एमडी ने निर्देश भी जारी कर दिए हैं उन्होंने कहा कि अगर तय समय में आपकी समस्या दूर नहीं होती है तो आपको मुआवजा मिलेगा और ये फैसला विद्युत विनियामक आयोग के निर्देश पर ही जारी हुआ है और अब पावर कॉर्पोरेशन द्वारा उत्तर प्रदेश राज्य में भी मुआवजा कानून लागू किया गया है.

इसे भी पढ़े: अब पिता की संपत्ति पर नहीं होगा बेटियों का हक, जानें बेटी संपत्ति के लिए दावा कब कर सकती है

अगर उत्तर प्रदेश में कही पर भी बिजली से जुड़ी समस्या दूर नहीं होती है तो उस पर ग्राहक को मुआवजा मिलेगा ये मुआवजा ग्राहक को बिजली कंपनी द्वारा दिया जाएगा इसके लिए ग्राहक को सबसे पहले अपनी समस्या को टोल फ्री नंबर 1912 पर लिखवाना है उसके बाद आपको एक समय अवधि दी जाएगी कि इतने समय में आपकी समस्या दूर हो जाएगी लेकिन अगर फिर भी आपकी समस्या उतने समय में नहीं दूर की जाती है तो आपको फिर से टोल फ्री नंबर 1912 पर कॉल करके मुआवजा के लिए दावा करना है ये मुआवजा डायरेक्ट आपके बैंक अकाउंट में भेजा जाएगा.

If the problem of UP electricity is not resolved then you will be able to take compensation
If the problem of UP electricity is not resolved then you will be able to take compensation

ग्राहक को कितना मिलेगा मुआवजा

अगर आपकी बिजली से संबंधित किसी भी तरह की कोई समस्या होती है तो आपको मुआवजा मिलेगा जिसमें 1 से 60 दिन का समय लग सकता है इसमें ग्राहक को वित्तीय वर्ष में दी गई मीटर की फिक्स और डिमांड चार्ज का 30% ही मुआवजा मिलेगा.

इसे भी पढ़े: RBI ने लिया बड़ा फैसला अब नहीं चलेंगे 2000 के नोट अगर आपके पास है तो जल्दी करें ये काम

जैसे- किसी ग्राहक ने एक किलोवॉट का कनेक्शन लिया है और उसने ₹110 मीटर का चार्ज एक महीने में लिया जाता है मतलब की 1 साल में आपसे कुल ₹1320 दिए जाते हैं तो ऐसे में आपका अधिकतम मुआवजा तो इस परसेंट के हिसाब से ₹336 का बनेगा.

मुआवजा किस केस में दिया जाएगा

बिजली संबंधित उस केस में लोगों को मुआवजा मिलेगा जैसे जिन्होंने नया कनेक्शन करवाया है और 7 से 10 दिन के अंदर कनेक्शन नहीं होता है तो वे मुआवजा के लिए दावा कर सकते है अगर किसी तरह की कोई समस्या हो जाने पर ट्रांसफार्मर नहीं बदला गया तो शहरी क्षेत्रों में 6 से 8 घंटे और ग्रामीण क्षेत्रों में 48 घंटे में ना बदले जाने पर मुआवज़े का दावा किया जा सकता है अगर कहीं पर अंडरग्राउंड केबल खराब जाती है तो शहरी क्षेत्रों में 12 घंटे और ग्रामीण क्षेत्रों में 48 घंटे में सही नहीं होती है तो ऐसी स्थिति में मुआवज़े का दावा किया जा सकता है इसके अलावा सात दिनों में बिलिंग शिकायत दूर ना होने पर और जला हुआ मीटर 3 दिन में न बदलने पर मुआवज़े की मांग की जा सकती है.

गांव में 6 घंटे और बड़े शहरों में 2 घंटे फ्जूज के सही न होने पर मुआवजा का दावा किया जा सकता है वैसे तो मुआवज़े का कानून साल 2019 में ही बनाया गया था लेकिन अब तक यह राज्य में लागू नहीं किया गया था लेकिन अब आयोग के कड़ा रुख अपनाने पर इन कंपनियों ने सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट पर मुआवजा कानून को पूरे उत्तर प्रदेश में लागू कर दिया है तो उत्तर प्रदेश के किसान इसका लाभ ले सकते हैं.

इसे भी पढ़े: सरकारी कर्मचारियों का वेतन बढ़ेगा 8000 रुपए तक 42 से बढ़कर 46 फीसदी तक होगा DA, हो गई बल्ले बल्ले

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *